होम / फोरेक्स शिक्षा – फोरेक्स की ट्रेड करना सीखें / स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट क्या है?

स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट क्या है?

FX Author Jeffrey Cammack द्वारा Author Information अपडेटेड: 24 09 19

फोरेक्स मार्केट में पैसा बनाने से ज्यादा महत्वपूर्ण रिस्क मैनेजमेंट है। जोखिम का मैनेजमेंट कैसे करना है, अगर आप यह नहीं जानते हैं, तो आप फोरेक्स मार्केट में पैसा नहीं कमा पाएंगे।

आप अपने ट्रेड में 100% नहीं जीत सकते हैं। यह असंभव है, क्योंकि फोरेक्स मार्केट हमेशा गतिशील है और अक्सर बड़े तर्कहीन तरीके से। इस कारण, आपको रिस्क मैनेजमेंट में मास्टर होने की जरूरत है। लक्ष्य तय करने, और एक ट्रेड प्लान विकसित करने के अलावा, आपको अपने ट्रेड को प्रोटेक्ट करने की भी ज़रूरत है।

जब भी आप कोई ट्रेड शुरू करते हैं, बंद होने से पहले अगर यह किसी गलत स्थिति में जाता है, तो आपको यह तय करना होगा कि आप उस विशेष कारोबार में कितना खोना चाहते हैं।

स्टॉप लॉस ऑर्डर क्या है?

स्टॉप लॉस ऑर्डर एक किस्म का ऑर्डर है जिसका उद्देश्य आपके जोखिम को मैनेज करना है। एक स्टॉप लॉस ऑर्डर ट्रेड में आपके नुकसान के आपके पूर्व निर्धारित स्टॉप लॉस प्राइस तक पहुंचते ही आपकी पोजीशन को लिक्विडेट (बंद) कर देगा। स्टॉप लॉस प्राइस वह कीमत है, जहाँ उस विशेष ट्रेड के पहुँचने का मतलब है, आपका विश्लेषण गलत था।

इसलिए, किसी ट्रेड में घुसने से पहले, आपको खुद से पूछना होगा, आप उस विशेष ट्रेड में कितना लॉस उठाना चाहेंगे। यही आपका स्टॉप लॉस होगा और इसे पिप्स में मापा जाता है

stop loss example

जब भी आप कोई करेंसी पेयर खरीदते हैं, तो आपका स्टॉप लॉस मौजूदा बाजार मूल्य से नीचे होगा। हालांकि, जब भी आप एक करेंसी पेयर को बेचते हैं और शार्ट करते हैं, आपका स्टॉप लॉस मौजूदा बाजार मूल्य से ऊपर होगा।

स्टॉप लॉस की गणना कैसे करें?

अपने स्टॉप लॉस की तुरंत गणना करना काफी आसान है।

मान लीजिए, आप मानते हैं कि 1.2200 पर EUR/USD को खरीदना ठीक रहेगा। अपने टेक्नीकल एनालिसिस के जरिये आप यह तय करते हैं कि आपकी आदर्श सुरक्षात्मक स्टॉप लॉस 1.2150 के सपोर्ट लेवल के नीचे है। अपने स्टॉप लॉस प्राइस को ट्रेड में एंट्री प्राइस से घटाकर आप अपना स्टॉप लॉस तय कर सकते हैं।

इस मामले में, यह 50 पिप्स (1.2200 एंट्री – 1.2150 स्टॉप लॉस = 50 पिप्स) है। इस 50 पिप्स को वास्तविक फाइनेंसियल मूल्य के रूप में देखा जाएगा जिसे आप खोएंगे यदि बाजार आपके स्टॉप लॉस तक पहुँच जाए और आपका ट्रेड लिक्विडेट (समाप्त) हो जाए।

नोट* स्टॉप लॉस ऑर्डर से हम जो हासिल करते हैं, वह है, हमारे नुकसान को कम करना।

टेक प्रॉफिट ऑर्डर क्या है?

किसी जीतते हुए ट्रेड में कब बाहर निकलना है, यह उतना ही महत्वपूर्ण है जितना यह फैसला कि नुकसान होते ट्रेड से कब एग्जिट करना है। यह तय करेगा कि आप लंबी अवधि में कितने फायदे में रहेंगे।

एक ट्रेड प्रॉफिट ऑर्डर का उपयोग किसी ख़ास ट्रेड में किए गए मुनाफ़े को लॉक करने के लिए किया जाता है। एक खुले हुए पोजीशन में जब तयशुदा प्रॉफिट आ जाए तो टेक प्रॉफिट ऑर्डर उस ट्रेड को ऑटोमेटिक रूप से बंद कर देगा।

जब आप एक करेंसी पेयर खरीदते हैं, आपका टेक प्रॉफिट हमेशा ही मौजूदा बाजार मूल्य के ऊपर होगा। वहीं, जब भी आप एक करेंसी पेयर को बेचते हैं, आपका टेक प्रॉफिट हमेशा ही मौजूदा बाजार मूल्य से नीचे होगा।

सुझाव: आप हमेशा ही अपने प्रॉफिट टार्गेट को अपने स्टॉप लॉस से बड़ा करना चाहेंगे।

स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट ऑर्डर कैसे दें

किसी ट्रेडिंग प्लेटफ़ॉर्म पर ट्रेड करना बहुत आसान है। ट्रेड शुरू करने से पहले आपको रिस्क मैनेजमेंट के लिए अपना स्टॉप लॉस सेट करना होगा और ऑटोमैटिक रूप से मुनाफ़ा तोड़ने के लिए ऑर्डर देना होगा।

ट्रेड शुरू करने के बाद भी आप अपना स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट टार्गेट लगा सकते हैं। यह उतना ही आसान है जितना ट्रेड शुरू करने से पहले।

आप किस तरह के ट्रेड प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग कर रहे हैं, उसके आधार पर आपके पास अलग-अलग ट्रेड टिकट होंगे। इस आलेख के उद्देश्य के लिए, हम हाइलाइट करने जा रहे हैं कि MetaTrader4 का उपयोग करते हुए स्टॉप लॉस ऑर्डर और टेक प्रॉफिट ऑर्डर कैसे देंगे। अगर आप ज्यादा विस्तार से जानना चाहते हैं, तो हमारे पास बेहतरीन एमटी4 ब्रोकरों की लिस्ट और एमटी4 सेटअप गाइड है।

new order tab in the MT4 platform

स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट ऑर्डर देना बहुत आसान है। जब आप MT4 प्लेटफ़ॉर्म में एक नया ऑर्डर टैब खोलते हैं, तो बस अपने स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट टार्गेट के लिए उपयुक्त प्राइस लेवल भरें।

फॉरेक्स और CFD की ट्रेडिंग सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं होती है और लीवरेज के कारण तेजी से पैसा गंवाने का हाई रिस्क लिए होती है। 75-90% रिटेल इन्वेस्टर इन प्रोडक्ट में ट्रेडिंग करते हुए पैसा गंवाते हैं। आपको यह तय करना चाहिए कि क्या आप समझते हैं कि CFD ट्रेडिंग कैसे काम करती है और क्या आप पैसा गंवाने का भारी जोखिम उठाने की स्थिति में हैं।
>