शुरू करने वालों के लिए 7 महत्वपूर्ण फॉरेक्स ट्रेडिंग टिप्स (ज़रूर पढ़ें!)

कई नए ट्रेडर हर दिन फॉरेक्स ट्रेड में शामिल होते हैं। फॉरेक्स कारोबार करना रोमांचक होता है, वास्तव में इसे बड़ी कुशलता से किया जा सकता है और यह जबरदस्त रूप से गहरी मार्केट लिक्विडिटी प्रदान करता है। इससे पहले कि लिक्विडिटी एक समस्या बन जाए विदेशी मुद्रा कारोबार से बने मुनाफे को आसानी से कई बार मिश्रित किया जा सकता है और घर में बैठकर आराम से ट्रेड किया जा सकता है। ट्रेडिंग रोबोट आपके लिए ज्यादातर काम कर सकते हैं, उत्कृष्ट तकनीकी संकेतक मुफ्त में उपलब्ध हैं और इसलिए हम उन लोगों के लिए उपलब्ध कई लाभों के बारे में बात करना जारी रख सकते हैं जो विदेशी मुद्रा कारोबार से जुड़ते हैं और फॉरेक्स ट्रेडिंग से जीविकोपार्जन करते हैं।

हालांकि शुरू से ही विदेशी मुद्रा कारोबार से सही तरीके से निपटना आवश्यक है। विदेशी मुद्रा कारोबार करना आसान नहीं है और लगातार मुनाफे में बने रहने के लिए सही कदम उठाये जाने चाहिए। नए विदेशी मुद्रा व्यापारी अनावश्यक गलतियाँ करते हुए हतोत्साहित होने वाली सबसे कमजोर कड़ी हैं। अच्छी खबर यह है कि इनमें से अधिकांश गलतियों से बचने के तरीके हैं। कुछ गलतियाँ शुरुआती लोगों से ज़रूर हो सकती हैं,लेकिन उनसे मनोबल और ट्रेडिंग अकाउंट पर कोई ख़ास असर नहीं पड़ना चाहिए। आइए नए फॉरेक्स ट्रेडर के लिए 7 मूल्यवान सुझावों पर एक नज़र डालते हैं:

सबसे पहले डेमो ट्रेडिंग!

मुझे यकीन है, आपमें से कई लोगों ने यह सिफारिश सुनी होगी। इस विषय के साथ समस्या यह है कि यह अक्सर औसत व्यापारी की मदद नहीं करता है, जो वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है। लगता है कि, आप कुछ खर्च किए बिना इस सहूलियत को नहीं पा सकते। इतनी जल्दी लाइव मनी के साथ ट्रेडिंग करने से निश्चित रूप से आपके पैसे खर्च होंगे। आप देखते हैं, ज्यादातर कारोबारी विदेशी मुद्रा बाजार को पूरी तरह से कम आंकते हैं। विदेशी मुद्रा बाजार में नए व्यापारियों को मूर्ख बनाने के कई तरीके हैं। यह ऐसे होता है …

ट्रेडिंग नतीजों का मूल्यांकन करते समय शुरुआती ट्रेडर अक्सर बहुत कम डेटा सैम्पल का उपयोग करते हैं। इससे हमारा क्या मतलब है? मान लें कि आप डेमो/प्रैक्टिस अकाउंट पर EUR/USD (अमेरिकी डॉलर के मुकाबले यूरो) में एक आशाजनक ट्रेड रणनीति आज़माते हैं। आप वीकली रेंज में कई ट्रेड करते हैं और वास्तव में अच्छा जीत अनुपात हासिल करते हैं। मान लें कि आप 1: 1 रिवॉर्ड-टू-रिस्क अनुपात के साथ कारोबार करते हैं और 10 में से 7 ट्रेड में जीत हासिल करते हैं। आप केवल एक हफ़्ते के कारोबार के आंकड़ों पर भरोसा करते हैं और यह मानते हैं कि बाजार की मौजूदा स्थिति आपके रास्ते में पैसे फेंकती रहेगी।

जब विदेशी मुद्रा व्यापारियों के साथ ऐसा कुछ होता है, तो वे अक्सर अति-आत्मविश्वास से भर जाते हैं और मान लेते हैं कि ऐसे नतीजे वे लगातार पाते रहेंगे। वे अपनी उत्कृष्ट ’ट्रेडिंग रणनीति’ के जरिये पैसा बनाने का इंतजार नहीं कर पाते और कुछ ही दिनों में वास्तविक धन के साथ कारोबार शुरू कर सकते हैं। इसके बाद की बात बताने की मुझे जरूरत नहीं है …

मेरा कहना यह है: आपको लम्बी अवधि में विदेशी मुद्रा कारोबार में कमाई करने के बारे में सोचना भी है, तो भी आपको इस बारे में उचित शिक्षा की आवश्यकता है। प्रशिक्षण या अनुभव के बिना किसी के लिए प्लेन उड़ाना वास्तव में जैसा मूर्खतापूर्ण होगा, वैसे ही आवश्यक शिक्षण प्रक्रिया और एक डेमो अकाउंट पर प्रैक्टिस के बिना लाइव अकाउंट पर विदेशी मुद्रा कारोबार करना मूर्खतापूर्ण है। विदेशी मुद्रा कारोबार उतना आसान नहीं है जितना यह लग सकता है।

व्यापक डेमो/सिम्युलेटेड ट्रेडिंग के बाद ही आपको ‘पायलट की सीट’ पर बैठना चाहिए

डेमो ट्रेडिंग में पूरा समय दें। विभिन्न कारोबारी रणनीतियों और तकनीकों को आजमायें। ट्रेडिंग का ठोस अनुभव प्राप्त करें और अपने डेमो अकाउंट पर कम से कम 6 महीने लगातार प्रॉफिट कमाने के बाद ही असली पैसा लगाएं। अब भी आपको केवल धीरे-धीरे ज्यादा तजुर्बा  हासिल करने के लिए छोटी धनराशि के साथ कारोबार करना शुरू करना चाहिए।

समुचित फॉरेक्स ट्रेडिंग निर्देश/शिक्षण हासिल करें

फॉरेक्स ट्रेडर अक्सर इस बारे में बहुत भोले होते हैं कि बहुत कम या बिना प्रशिक्षण के कितना कमा ‘पायेंगे’। यकीन करें या न करें, फॉरेक्स ट्रेडिंग में प्रशिक्षण ज़रूरी है।

यह बहुत स्पष्ट हो जाना चाहिए, लेकिन पहले एक डेमो ट्रेडिंग की तरह ही फॉरेक्स कारोबार की शिक्षा अक्सर उपेक्षित होती है। ज्ञान हासिल करने में कोई भी निवेश करना निश्चित रूप से सबसे अच्छा होता है। अपनी फॉरेक्स ट्रेडिंग के साथ यह निवेश करें, आपको पछतावा नहीं होगा। यहां तक ​​कि अगर आपको पाठ या वास्तव में एक अच्छे ट्रेडिंग कोर्स पर खर्च करना पड़े, तो बाज़ार में पैसे दान कर देने की बजाय ट्रेडिंग शिक्षा पर पैसा खर्च करना बेहतर है। मूर्ख न बनें, पायलट की सीट पर बैठने से पहले उड़ान भरना सीख लें। आपको आँकड़ा बनने की ज़रूरत नहीं है।

छोटे टाइम फ्रेम से बचें

5-मिनट की कैंडलस्टिक में कितना मार्केट डेटा होता है? यह एक बहुत ही बेवकूफी का सवाल है, है ना? फिर भी, कई कारोबारियों को लगता है, वे 5-मिनट या 15-मिनट के कुछ कैंडलस्टिक्स को देखकर असाधारण ट्रेडिंग फैसले/भविष्यवाणियां कर सकते हैं। अनुभवी और अनुभवहीन दोनों व्यापारियों के लिए बाजार में महारत हासिल करने का सबसे अच्छा तरीका बड़े टाइम फ्रेम का इस्तेमाल करना है। छोटे टाइमफ्रेम का उपयोग करने वाले कारोबारी आमतौर पर उन ज्यादा तजुर्बेकार ट्रेडरों के खेल का शिकार होते हैं जो अपने व्यापारिक निर्णय लेने के लिए डेली चार्ट और अन्य बड़े टाइमफ्रेम का उपयोग करते हैं।

इसका मतलब यह नहीं है कि आप छोटे टाइम फ्रेम में कमाई नहीं कर सकते हैं। लेकिन बड़े टाइम फ्रेम में कारोबार करना अधिक विश्वसनीय और कम तनावपूर्ण भी है। कारोबार शुरू करने का एक अच्छा तरीका 4-घंटे, डेली और साप्ताहिक टाइम फ्रेम का उपयोग करना है। बड़े टाइमफ्रेम में ट्रेडिंग करना आपको गलतियों के लिए ज्यादा गुंजाइश और समय भी देता है (बड़े स्टॉप लॉस का उपयोग किया जाता है) और बिना हड़बड़ी के ट्रेडिंग फैसले/ एक्शन लेने का समय भी।

उदाहरण के लिए, आपके पास अपने शुरुआती ट्रेड के मापदंडों (प्रवेश मूल्य, स्टॉप लॉस, और टेक प्रॉफिट) को निश्चित करने, उन्हें कैलकुलेट करने और अपने स्टॉप लॉस या टेक प्रॉफिट को बदलने के लिए पर्याप्त समय होगा।

बाजार का पीछा न करें

मोलभाव करने के सबसे ताकतवर तरीकों में से एक है, “नहीं” कहना। आप अपने प्रतिपक्षियों की शर्तों पर ट्रेड क्यों करना चाहते हैं? अपनी शर्तों के साथ उन कीमतों पर कारोबार करें जो आपके लिए फायदेमंद हों।

GBP/USD के इस डेली चार्ट में खरीडारी के शानदार अवसर (लाल रंग में) माध्य (mean) के करीब (मूविंग एवरेज अर्थात चलती औसत के करीब) पाए गए। इस तरह के बाजार में पुलबैक का इंतज़ार बेदाग मुनाफा दे सकता है। *कृपया ध्यान दें कि नॉन वोलेटाइल, मजबूत एकतरफा रुझान, छोटे टाइम फ्रेम पर ब्रेकआउट रणनीति या पुलबैक का इस्तेमाल करने की ज़रूरत पड़ सकती है क्योंकि ऊँचे टाइमफ्रेम पर उल्लेखनीय पुलबैक का आमतौर पर अभाव होता है।

कई मामलों में (विशेष रूप से वोलेटाइल बाजारों जो अक्सर गहरे पुलबैक करते हैं), जब हर कोई खरीद रहा है (जब कीमत एक ओवरबॉट क्षेत्र में है) और इस बहाव में आप भी कूद पड़ें तो वाकई आप ख़राब कीमतों से भर जायेंगे। ऐसे बाजार हालात में बाजार में एंट्री करने से पहले कीमतों की सही स्तर पर वापसी की प्रतीक्षा करना आपको फायदा देता है। ये एंट्री विशेष रूप से लाभदायक हो सकती हैं, खासकर एक शातिर स्विंग ट्रेडिंग रणनीति, बाजार के ‘कांटेक्स्ट’ की विवेकपूर्ण समझ, कुछ तकनीकी इंडिकेटर और सही एरिया (आमतौर पर माध्य के करीब) में स्थित एक मजबूत रिजेक्शन कैंडल जैसे विश्वसनीय कैंडलस्टिक ट्रिगर का तालमेल विशेष रूप से मुनाफजनक हो सकता है। बेशक, एक शुरुआती ट्रेडर के रूप में हो सकता है आपके लिए शुरु से ही यह सब उपलब्ध न हो, लेकिन उन रुझानों के खिलाफ पुलबैक होने पर मजबूत रुझानों की दिशा में एंट्री करना आपको उन ट्रेडरों के मुकाबले बेहतर कीमत दे सकता है जो कीमतों का पीछा कर रहे हैं। तो क्या होगा अगर आप एक एंट्री का मौका गवां देते हैं? इसकी फ़िक्र न करें, ऐसे अवसर हमेशा होंगे जहां आप अपनी शर्तों पर, अपनी कीमत पर ट्रेड कर पायेंगे। जब आप ऐसा करते हैं, तो ज्यादा आसानी से बाधाओं को अपने पक्ष में मोड़ने की संभावना रखते हैं।

एक स्नाइपर ट्रिगर को खींचने के लिए सटीक क्षण की प्रतीक्षा करता है। कोई पीछा नहीं, अस्त्र की कोई बर्बादी नहीं…

जोखिम का सही निपटान बहुत अहम है – एक समय में छोटे जोखिम ही लें

यह जानना कि अपनी पूंजी का कितना हिस्सा एक समय या एक दिन में जोखिम में डालना चाहिए, वास्तव में महत्वपूर्ण है। वाकई यह बिल्कुल महत्वपूर्ण है! शायद इस बारे में ठीक तरह से सोचने के लिए आपको कुछ समय लेना चाहिए क्योंकि बेशक सबसे अहम चीजों में से एक है जिसे आपको ट्रेडिंग के सन्दर्भ में जान लेना चाहिए।

सामान्य तौर पर इसका एक अच्छा नियम यह है कि एक ट्रेड में अपने पूरे अकाउंट का 2 प्रतिशत से कम हिस्सा जोखिम में डालना चाहिए। यहां तक ​​कि अगर आप एक डेमो ट्रेड कारोबार कर रहे हैं, तो यह वास्तव में महत्वपूर्ण है, क्योंकि आपको एक बार में छोटी राशि का जोखिम लेने की आदत डालने की ज़रूरत है। बेशक जब आप पहली बार लाइव ट्रेडिंग शुरू करते हैं, तो प्रति ट्रेड 2 प्रतिशत से भी काफी कम का जोखिम उठा सकते हैं।

अगर आपके पास एक शानदार ट्रेडिंग रणनीति है जो उत्कृष्ट नतीजे दे सकती है, तो प्रति ट्रेड 2 प्रतिशत से कम का जोखिम क्यों लें? अच्छा सवाल है। आखिरकार अगर आप प्रति ट्रेड 5 या 10 प्रतिशत का जोखिम लेते हैं तो आप बहुत तेजी से धन पर झपट्टा मारेंगे! ज़रा एक्जोटिक छुट्टियों, महंगी कारों, और उम्दा जिंदगी आदि के बारे में सोचें।

गलत। ट्रेडिंग दरअसल ज्यादातर संभावनाओं की बात है। अब भी मेरे साथ सहमत नहीं हैं? एक काल्पनिक गणितीय सूत्र है जिसे रिस्क ऑफ रुइन फॉर्मूला अर्थात बर्बादी का जोखिम सूत्र कहा जाता है जो आपके पूरे खाते को उड़ा देने वाली किसी विशेष ट्रेडिंग रणनीति की संभावना की गणना करने के लिए विभिन्न वैरिरेबल (जीत का अनुपात, जोखिम का प्रतिशत आदि) का उपयोग करता है। इसे छोटा और मीठा रखने के लिए आइए इस शक्तिशाली सूत्र द्वारा बताए गए सबसे महत्वपूर्ण बिंदु पर जाएं – यहां तक ​​कि एक शानदार ट्रेडिंग रणनीति आपके ट्रेडिंग अकाउंट को बर्बाद कर सकती है यदि बहुत बड़े आकार के लॉट के साथ कारोबार किया जाए। उदाहरण के लिए, एक ट्रेड पर आपके ट्रेडिंग खाते का 10% जोखिम उठाना बहुत ही ज्यादा जोखिम भरा तरीका है और इस ममाले में 60% की जीत अनुपात (1: 1 रिवार्ड टू रिस्क रेशियो) वाली एक स्ट्रेट्जी के साथ भी आपका अपने खाते को फूंक डालने का अच्छा मौका है।

दूसरी ओर यदि आप इसी रणनीति का उपयोग करते हैं और प्रति ट्रेड दो प्रतिशत से कम का जोखिम उठाते हैं, तो आपका अपने खाते को फूंक डालने की संभावना नगण्य है। व्यावहारिक उद्देश्यों के लिए 1 प्रतिशत से कम का जोखिम लेकर खाते को शून्य कर डालने के अवसरों को कम कर सकते हैं।

प्रोफेशनल फंड मैनेजर मुनाफा कमाने के बारे में सोचने से पहले जोखिम प्रबंधन पर ध्यान देते हैं। क्या रिस्क मैनेजमेंट आपकी पहली प्राथमिकता है?

जोखिम प्रबंधन पर बस एक आख़िरी वाक्य – यदि आप प्रति ट्रेड अपने खाते के एक प्रतिशत का जोखिम लेते हैं, लेकिन एक साथ 30 ट्रेड शुरू करते हैं, तो यह संभवतः आपके जोखिम प्रबंधन को नकार देगा क्योंकि आपका कुल जोखिम बहुत अधिक है और आपके पास शायद करेंसी पेयर पर चलने वाले ‘समान-पक्षीय’ ट्रेड हैं जो आपस में जुड़े हुए हैं।

यदि आप लंबे समय के लिए ट्रेडिंग गेम में रहना चाहते हैं, तो उचित जोखिम प्रबंधन अनिवार्य है!

अपनी भावनाओं को नियंत्रित करना सीखें – मशीन की तरह ट्रेड करें, (और इंसान की तरह सोचें)

आप सोच सकते हैं, कि आप बहुत कठिन हैं और एक ट्रेडिंग प्लान से चिपके रहने और तनावपूर्ण परिस्थितियों में शांत रहने में सक्षम हैं, लेकिन इस बारे में सोचें – मान लें कि आपके पास एक शानदार ट्रेडिंग रणनीति है जिसे आपने बैकटेस्ट और फॉरवर्ड-टेस्ट किया है जो 65% जीत अनुपात प्राप्त प्रदान करता है। मान लें कि प्रति ट्रेड आप अपने ट्रेडिंग अकाउंट के एक प्रतिशत का जोखिम लेते हैं। आपके पास देखभाल करने के लिए एक परिवार है और भले ही आप उस पैसे से कारोबार कर रहे हैं जिसे आप खोना सहन कर सकते हैं, आप वास्तव में अपनी पूंजी के लिए उच्च उम्मीदें रखते हैं और आपकी पत्नी और बच्चे भी। अब माल लेते हैं कि यह ट्रेडिंग रणनीति आपको खाते के 32% गिरावट तक ले जाती है। क्या आप इतने बड़े ड्रॉडाउन के भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक दबाव को झेल पाएंगे? याद रखें, ऐसे लोग हैं जो आपके प्रदर्शन की जांच कर रहे हैं।

“आपको एक प्रोफेशनल की तरह कारोबार करने के लिए बहुत टफ होने की ज़रूरत है।”

जो बिंदु मैं साफ़ करने का प्रयास कर रहा हूं, वह है – “आपको एक प्रोफेशनल की तरह कारोबार करने के लिए बहुत टफ होने की ज़रूरत है।” इसके आसपास बात करने का कोई फायदा नहीं है। ट्रेडिंग एक युद्ध है और बाजार को जीतने के लिए आपको एक सैनिक के दृष्टिकोण और अनुशासन की ज़रूरत होती है। मानव मनोविज्ञान पर ट्रेड को हारने का असर जीतने वाले ट्रेडों की तुलना में बहुत अधिक गहरा होता है। एक त्रुटिहीन ट्रेडिंग रणनीति के साथ भी आपको अपने लक्ष्यों को हासिल में असफल होने का सामना करना पड़ेगा और ड्रॉडाउन की सवारी करनी होगी। दुर्भाग्य से, सफल कारोबारियों के सबसे महत्वपूर्ण लक्षणों में से एक ट्रेड को खोने की क्षमता है।

इसका आनंद लें!

आइए इसका सामना करें, जो लोग इसका आनंद लेते हैं और जो इसके बारे में पैशन से भरे होते हैं वे अक्सर इसे सबसे अच्छा करते हैं। हम कभी-कभी लक्ष्यों और महत्वाकांक्षाओं से इतने उलझे हो सकते हैं कि हम सफल और स्थायी फॉरेक्स ट्रेड के एक अनिवार्य घटक के बारे में भूल जाते हैं – आनंद।

अपने ट्रेड को मजेदार बनाने और इसे बनाए रखने के लिए सही कदम उठाएं!

  • ये स्टेप आपको अपने कारोबार का सबसे अधिक लाभ उठाने में मदद करेंगे (मजे के लिहाज से):
  • ओवरट्रेड न करें। आपको अपने निवेश पर अच्छा लाभ कमाने के लिए एक दिन में सैकड़ों ट्रेड करने की ज़रूरत नहीं है।
  • आपके अकाउंट की छोटी राशि का जोखिम लें। मनोवैज्ञानिक रूप से यह कितना आसान है, आप देखकर दांग रह जाएंगे।
  • पूरे दिन अपनी स्क्रीन पर टकटकी न लगाएं। किसी चार्ट को देखते रहने से मूल्य आपकी दिशा में नहीं आ जाएगा। इसके अलावा, दिन के अंत वाले ट्रेडर अक्सर डे ट्रेडरों से ज्यादा कमाई करते हैं।
  • यदि आवश्यक हो तो समय-समय पर ट्रेडिंग ब्रेक लें।
  • मुनाफजनक बनने के लिए आप जो कुछ कर सकते हैं, करें। कारोबार के संदर्भ में, अपने ट्रेडिंग खाते में एक अच्छा प्रॉफिट देखने से ज्यादा सुखद कुछ नहीं है।
Trading Forex and CFDs is not suitable for all investors and comes with a high risk of losing money rapidly due to leverage. 75-90% of retail investors lose money trading these products. You should consider whether you understand how CFDs work and whether you can afford to take the high risk of losing your money.
+ +