होम / फोरेक्स शिक्षा – फोरेक्स की ट्रेड करना सीखें / फोरेक्स ट्रेडिंग में जोखिम मैनेजमेंट

फोरेक्स ट्रेडिंग में जोखिम मैनेजमेंट

FX Scouts Jeffrey Cammack द्वारा अपडेटेड: 24 09 19

रिस्क मैनेजमेंट की अहमियत को बहुत से ट्रेडर नजरदांज करते हैं। कामयाब ट्रेडर जो समझते हैं, फोरेक्स ट्रेड कैसे करनी है, पैसा बनाने से ज्यादा पैसा न गंवाने को लेकर चिंतित रहते हैं। एक सफल व्यापारी और सब कुछ गंवाने वाले कारोबारी के बीच फर्क को बहुत कम ही अवसरों पर भाग्य पर छोड़ा जाता है, अक्सर इसका दारोमदार इस बात पर दिया जाता है कि जोखिम भरे ट्रेड का प्रबंधन वे कैसे करते हैं, और साथ-साथ उस ट्रेड को वे कितना समझते हैं जिसमें वे कारोबार करना चाहते हैं।

एक सफल कारोबारी एक पेशेवर निशानेबाज की तरह हर ट्रेड को अलग नजरिये से लेता है, हर संभव दुर्घटना का सटीक अनुमान करते हुए और उससे बचने के लिए ज़रूरी कदम उठाते हुए। फोरेक्स ट्रेडिंग में यह तीन बुनियादी तत्वों के रूप में बताया जाता है:

  • अपने करेंसी पेयर को जानें;
  • अपनी सीमाएं जानें;
  • जीत और हार का एक अनुपात तय करें;
  1. अपने करियर पेयर को जानें

जोखिम प्रबंशन में सबसे ज्यादा अनदेखी किये जाने वाले पहलुओं में एक है ज्ञान – जहाँ आपकी ट्रेडिंग एक्टिविटी किस्मत पर कम और अनुभव पर ज्यादा आधारित होगा। करेंसी पेयर में निवेश करने से पहले, इसके बारे में रिसर्च करें। उन खबरों की जानकारी हासिल करें जिनका आपकी ट्रेड पर असर हो सकता है, मार्केट सेंटिमेंट की नब्ज पकड़ने की कोशिश करें, कुछ ऐतिहासिक चार्ट को खोलें और यह जानने की कोशिश करें कि विभिन्न घटनाओं के बाद इस करेंसी पेयर की क्या प्रतिक्रिया हुई थी।

ट्रेड शुरू करने से पहले वर्तमान चार्ट और अपने कैलेंडर न्यूज़ इवेंट की जाँच करें कि आने वाली अवधि में करेंसी पेयर कैसे उठेगी या गिरेगी, और किस कीमत पर आपको ट्रेड शुरू करना चाहिए। बाजार में मौजूदा उतार-चढ़ाव पर गहरी नज़र डालें और उसके अनुसार अपने स्टॉप लॉस और टेक प्रॉफिट ऑर्डर तय करें

  1. अपनी सीमाएं जानें

पेशेवर ट्रेडर कभी भी एक ट्रेड में अपनी इक्विटी के 2% -3% से ज्यादा का जोखिम नहीं लेते। इसके लिए आपको अपने अकाउंट में मौजूद रिस्क की गणना करनी चाहिए और ऐसे फैसले लेने से अपने को रोकना चाहिए जो आपको मुश्किल में डाल देंगे। आपके जोखिम को प्रभावित करने वाले 5 कारक हैं।

  • पिप्स में मापा गया स्टॉप-लॉस
  • पिप-वैल्यू, प्रति लॉट डॉलर में
  • लॉट में पोजीशन का आकार
  • इक्विटी (डॉलर में)
  • इस्तेमाल किया गया लीवरेज।

USD वैल्यू में जोखिम की गणना

यहाँ अमरीकी डालर में खाते के जोखिम का आसान कैलकुलेशन है।

Calculating Equity Risk

अकाउंट इक्विटी के % में जोखिम की गणना

और आपके खाते के % के रूप में।

Calculating % Risk

लीवरेज का उपयोग होने पर जोखिम की गणना

लीवरेज एक अद्भुत टूल है, लेकिन जैसे ही आप अपने ट्रेड में लीवरेज बढ़ाते हैं, यह आपके अकाउंट में जोखिम को भी बढ़ा देता है। उपयोग किए गए लीवरेज को आपकी गणना में निम्न तरीके से शामिल किया जाएगा। यह उदाहरण 1:10 के लीवरेज का उपयोग कर रहा है।

Equity & % risk with leverage

लेकिन इन गणनाओं को करते हुए आप देख सकते हैं कि आपकी सीमाएं कहां हैं, और कहाँ आपके अकाउंट का जोखिम बहुत ज्यादा होगा। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किसी ट्रेड में कितना विश्वास करते हैं, आप कुछ ट्रेड हमेशा करेंगे जो आपके खिलाफ जायेंगे, इसलिए हर ट्रेड लेवल पर जोखिम का प्रबंधन बहुत महत्वपूर्ण है। आप एक हार-जीत का अनुपात तय करना सुनिश्चित करें।

  1. हार-जीत अनुपात सेट करें

एक ट्रेडर को लंबी अवधि में सफलता पाने के लिए जोखिम से ज्यादा इनाम मिलना चाहिए। एक अच्छा व्यापारी हमेशा व्यापार पर कम से कम जोखिम लेता है। ऐसा कोई सटीक अनुपात नहीं है, जिसका आप अनुसरण कर सकते हैं, क्योंकि यह ट्रेड की लंबाई और ट्रेड किये गए पेयर के आधार पर बदलता रहता है। लक्ष्य जितना हो सके जोखिम को कम करना और मुनाफे को अधिकतम बनाने का प्रयास करना है।

win-loss-ratio-research

Average Profit vs Average Loss Per Currency Pair – Source: DailyFX

अमेरिका के खुदरा व्यापारियों के सबसे बड़े ब्रोकरों में से एक ने अपने ग्राहकों द्वारा किए गए लाखों ट्रेड का अध्ययन करने के बाद पाया कि भले ही उनके रिटेल ट्रेडर अक्सर गलत से ज्यादा सही थे, फिर भी वे पैसे गँवा रहे थे। उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि लंबे समय तक पैसा गंवाने का एकमात्र कारण यह है कि, वे अपने जीतने वाले ट्रेड में जितना जीतते हैं, उससे ज्यादा हारने वाले ट्रेड में गंवाते हैं।

निम्न जीत-हानि अनुपात: बर्बादी का जोखिम (risk of ruin )

बर्बाद होने का जोखिम (risk of ruin) उस संभावना को संदर्भित करता है कि आप अपने सभी ट्रेडिंग कैपिटल को खो देंगे। आइए मान लें कि आपने अपने हर ट्रेड पर 5% का जोखिम लिया है। इसके अलावा, आइये बर्बाद होने के जोखिम (risk of ruin ) और पुरस्कार और जोखिम की अवधारणा को इस उदाहरण में लाएं (नीचे चित्र 1 देखें)।

पुरस्कार और जोखिम का अनुपात जितना ज्यादा होगा ट्रेडर का कम % जीतने की ज़रूरत होगी।

 

risk-of-ruin

Figure 1: Risk of Ruin Table Example – Risking 5% of equity per trade

निष्कर्ष

फोरेक्स ट्रेडिंग मनीमेकिंग बिजनेस, बाजार-पूर्वानुमान बिजनेस या फाइनेंस क्षेत्र का हिस्सा नहीं है। फोरेक्स ट्रेडर जोखिम प्रबंधन व्यवसाय में हैं, और हमें खुद को ऐसी कंपनी के रूप में सोचना है जो जोखिम का प्रबंधन करता है। पुरस्कार और जोखिम (risk to reward) अनुपात जितना ज्यादा होगा, फोरेक्स ट्रेडर की कामयाबी उतनी ज्यादा होगी।

Share your knowledge

फीचर्ड ब्रोकर

फॉरेक्स और CFD की ट्रेडिंग सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं होती है और लीवरेज के कारण तेजी से पैसा गंवाने का हाई रिस्क लिए होती है। 75-90% रिटेल इन्वेस्टर इन प्रोडक्ट में ट्रेडिंग करते हुए पैसा गंवाते हैं। आपको यह तय करना चाहिए कि क्या आप समझते हैं कि CFD ट्रेडिंग कैसे काम करती है और क्या आप पैसा गंवाने का भारी जोखिम उठाने की स्थिति में हैं।