नॉन-फार्म पेरोल (एनएफपी) रिपोर्ट

गैर-फार्म पेरोल रिपोर्ट अमेरिका की सबसे महत्वपूर्ण आर्थिक घोषणाओं में से एक है। इसकी रिलीज का दिन कारोबार के अवसरों का एक बड़ा स्रोत हो सकता है। यह आमतौर पर हर महीने पहले शुक्रवार को न्यूयॉर्क समय के अनुसार सुबह 8:30 बजे जारी किया जाता है।

रिपोर्ट से पता चलता है कि वर्तमान में अमेरिकी मैन्युफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन और माल उद्योगों में कितने लोग काम कर रहे हैं। यह डेटा महत्वपूर्ण है क्योंकि ये नौकरियां संयुक्त राज्य अमेरिका के कुल कर्मचारियों की 80% का प्रतिनिधित्व करती हैं।

एनएफपी रिपोर्ट में कृषि श्रमिक, सरकारी कर्मचारी, निजी घरेलू कर्मचारी और नॉन-प्रॉफिट संगठनों में काम करने वाले लोग शामिल नहीं है।

कारोबारियों के लिए एनएफपी इतना अहम क्यों है?

नॉन-फार्म पेरोल रिपोर्ट हर महीने की सबसे महत्वपूर्ण न्यूज़ समाचार विज्ञप्ति है। NFP व्यापारियों के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बाजार में भारी उठापठक लाती है। एक वोलेटाइल मार्केट कारोबार के अवसरों और बड़े मुनाफे का प्रमुख स्रोत होता है। साथ ही, इसमें बड़े नुकसान भी हो सकते हैं क्योंकि इससे जोखिम भी बढ़ जाता है।

नौकरियों के ये आंकड़े अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य के बारे में बहुत कुछ बताते हैं। विशेष रूप से यदि संख्या अपेक्षा से बहुत अधिक या कम है। इस परिदृश्य का वित्तीय बाजारों और एफएक्स मुद्रा बाजार पर एक बड़ा और आकस्मिक प्रभाव हो सकता है। करेंसी मूल्य में इन चरम बदलावों का अर्थ ट्रेड के अच्छे अवसर है, लेकिन जैसा कि पहले बताया गया है, यह अस्थिरता जोखिम को भी बढ़ा देती है।

मुझे किस करेंसी पेयर का कारोबार करना चाहिए?

एनएफपी रिलीज के समय EUR/USD, GBP/USD, AUD/USD या USD/JPY जैसे प्रमुख करेंसी पेयर कारोबारियों के फेवरिट हैं। अमेरिकी अर्थव्यवस्था कितनी अच्छी तरह से चल रही है, इस आधार पर कारोबारी जैसे-जैसे USD को खरीदते या बेचते हैं, करेंसी पेयर अक्सर स्थानांतरित होता रहता है।

अपेक्षित फ्यूचर ग्रोथ के आधार पर निवेशक शेयर खरीदेंगे और बेचेंगे, इसलिए प्रमुख स्टॉक इंडेक्स तेजी से उठते-गिरते हैं।

अमरीकी डालर से जुड़ी कमोडिटी का भी मूल्य बदल जाएगा और ट्रेडिंग के अवसर पैदा होंगे। इसका अच्छा उदाहरण सोना है। अमरीकी डालर का भाव जब गिर रहा हो तो निवेशकों द्वारा सोने को सुरक्षित आश्रय के रूप में देखा जाता है। इसलिए नौकरियों की संख्या और निवेशक अर्थव्यवस्था को लेकर कितने आश्वस्त हैं, इस आधार पर सोने का भाव भी भारी उठा-पटक का शिकार हो सकता है।

अब तक यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि NFP की रिलीज के इर्द-गिर्द व्यापार के अवसर सिर्फ एफएक्स बाजारों तक ही सीमित नहीं हैं। सर्वोत्तम कारोबारी अवसर खोजने के लिए एक अनुभवी व्यापारी को रिसर्च करना चाहिए लेकिन हमेशा सावधानी से कदम बढ़ना चाहिए।

वोलाटिलिटी जहाँ लाभ के अवसर पैदा करती है, वहीं यह आसानी से नुकसान का कारण बन सकती है। तो एनएफपी ट्रेड करते समय जोखिम को मैनेज करने के लिए हमेशा स्टॉप-लॉस का उपयोग करें। यदि आप स्कैल्पर नहीं हैं तो पोजीशन बनाने से पहले आप बाजार के ठहरने की प्रतीक्षा कर सकते हैं।

इसके अलावा, मैं EUR/JPY, EUR/AUD, GBP/JPY आदि क्रॉस करेन्सी पेयर से बचने का सुझाव दूँगा। क्रॉस करेंसी पेयर बड़े बड़े दोमुंहा आरा बनाते हैं और और प्रमुख करेंसी पेयर की तुलना में कम अनुमान योग्य होते हैं।

एनएफपी रिपोर्ट पर ट्रेड करने के लिये टिप्स और ट्रिक्स

बहुत से पेशेवर व्यापारी जबरदस्त अस्थिरता से जुड़े जोखिम के कारण एनएफपी न्यूज़ रिलीज के दौरान कारोबार न करना ही ठीक समझते हैं। यदि आप ऊँचे प्रभाव वाली खबरों की घोषणाओं के दौरान बाजार में भाग लेने में सहज हैं, तो कुछ ऐसी ट्रिक हैं जो आपको लाभ दे सकती हैं।

सबसे महत्वपूर्ण बात आप को ध्यान में रखना है कि सबसे गंभीर एकतरफा उतार-चढ़ाव हमेशा दो चीजों में से एक के नतीजे के रूप में आएगा। एनएफपी आंकड़े या तो बाजार की उम्मीद के खिलाफ जायेंगे या उससे अनापेक्षित रूप से ऊँचे होंगे।

एनएफपी आंकड़े बाजार से चूक जाएं, तो इसका USD दर पर नकारात्मक प्रभाव होगा और यूएसडी पेयर के शॉर्टिंग अवसर पैदा करेगा। दूसरी तरफ, यदि आंकड़े अपेक्षा से बेहतर हैं, तो आपके सामने एक लॉन्ग पोजीशन बनाने का एक अच्छा अवसर होगा।

आइए उदाहरण के लिए 3 जून, 2016 के गैर-कृषि पेरोल आंकड़े को लेते हैं जो अप्रत्याशित रूप से बाज़ार की उम्मीदों से भटक गया था। बाज़ार की आम राय मई में 159 हज़ार नौकरियों के जुड़ने की थी। लेकिन, आंकड़े इससे बहुत कम थे और पिछले महीने के दौरान केवल 38 हजार नौकरियां जुड़ी थी। बाजार ने भारी पैमाने पर USD की बिकवाली की, जिसका मतलब है डॉलर ने EUR/USD रैली की तरह क्रॉस किया (चित्र 1 देखें)।

nfp-eur-usd

Figure 1: EUR/USD 5-Minute Chart

यदि आपने एनएफपी रिलीज से पहले ही लॉन्ग पोजीशन नहीं बनाया हैं, तो इस ट्रेड को पकड़ने का सबसे अच्छा तरीका रिलीज जारी होने के तुरंत बाद बाजार में प्रवेश करना है।

ऐसा करने के लिए आपको कुछ फिसलन सहन करना होगा, इन परिस्थितियों में बाजार द्वारा बड़ी उछाल करने के कारण जिससे बचा नहीं जा सकता है। किसी भी परिस्थिति में, कोई कारोबारी इस हलचल को छोड़ नहीं सकता (उल्टे तरफ ट्रेड करना) क्योंकि आप हमेशा ही पहली प्रतिक्रिया की दिशा में व्यापार करना चाहते हैं।

यह अब तक का सबसे अनुकूल और सबसे लाभदायक एनएफपी परिदृश्य है जिसका अवसर आप उठा सकते थे।

व्यापार के लिए दूसरा सबसे अच्छा एनएफपी परिदृश्य तब होता है जब पेरोल आंकड़ों में कोई बड़ा बदलाव नहीं आता है। इस परिदृश्य में, पहली लहर को गुरज जाने देना हमेशा सर्वोत्तम होता है, क्योंकि असली चाल शुरू होने से पहले पहला कदम दरअसल स्टॉप हंट हो सकता है।

आइए 6 मई, 2016 के गैर-कृषि पेरोल आंकड़ों का एक और उदाहरण लें, जब एनएफपी के आंकड़े बाजार की अपेक्षाओं से चूक गए और पिछली 203 हजार नौकरियों से घटकर 160000 पर आ गयी।

चित्र 2 में हम देख सकते हैं, शुरुआती प्रतिक्रिया अपेक्षानुसार ही हुई थी। एक खराब एनएफपी आंकड़े का मतलब है कि कम डॉलर भाव और इस प्रकार ऊँचा EUR/USD । लेकिन यह हमेशा संख्याओं का खेल नहीं होता है। एनएफपी आंकड़ों के आस-पास घिरे सन्दर्भों को भी समझना और उन्हें अपनी तकनीकी तस्वीर में शामिल करना सर्वोत्तम है।

इस मामले में, प्रचलित EUR/USD ट्रेंड नीचे की ओर था। भविष्यवाणी के अनुसार, पहला कदम दरअसल एक धोखा था और एक बड़ी आरी (whipsaw) के रूप में समाप्त हुआ।

 

nfp-eur-usd-downtrend

Figure 2: EUR/USD 1H Chart

ये नियम कोई पत्थर की लकीर नहीं हैं। वे सिर्फ गाइडलाइन हैं और जैसे-जैसे आप अनुभव हासिल करते हैं, आप एनएफपी रिलीज के दौरान होने वाले प्राइस एक्शन का विश्लेषण करने में ज्यादा कुशल बन जाएंगे।

याद रखें, एनएफपी रिपोर्ट के दौरान ट्रेडिंग करने में हाई वोलाटिलिटी के कारण रिस्क ज्यादा होता है। इस तरह ऐसे वातावरण में अपनी पोजीशन के आकार को एडजस्ट करना बुद्धिमानी है।

गैर-कृषि पेरोल (NFP)) रिपोर्ट अमेरिकी श्रम सांख्यिकी ब्यूरो में उपलब्ध है।

Trading Forex and CFDs is not suitable for all investors and comes with a high risk of losing money rapidly due to leverage. 75-90% of retail investors lose money trading these products. You should consider whether you understand how CFDs work and whether you can afford to take the high risk of losing your money.
+ +