इक्विटी और मार्जिन क्या हैं?

FX Scouts Jeffrey Cammack द्वारा अपडेटेड: 24 09 19

पिछले लेख, लॉट और लीवरेज क्या हैं, हमने कहा है कि लीवरेज के जरिये आप अपने खाते की इक्विटी की तुलना में बहुत ज्यादा मात्रा में पैसे को नियंत्रित कर सकते हैं। अब हम यह बताएंगे, आप यह कैसे कर सकते हैं।

आम तौर पर, अगर किसी चीज की कीमत $10,000 है, तो आपको इसके लिए $10,000 का भुगतान करना होगा। यह सामान्य ज्ञान की है। लेकिन फोरेक्स मार्केट में कारोबार करते समय, आप जो खरीद रहे हैं, उसकी पूरी कीमत चुकाने की ज़रूरत नहीं है। आपको सिर्फ किसी संभावित नुकसान की भरपाई करने वाली राशि को जमा करना होगा। इस जमाराशि को मार्जिन कहते हैं।

मार्जिन वह डिपाजिट है जिसे फोरेक्स करेंसी मार्केट में एक ट्रेड खोलने और उस पोजीशन को बनाए रखने के लिए ज़रूरी है। यह किसी फीस या लेन-देन की लागत नहीं है। सरल शब्दों में यह केवल आपके अकाउंट बैलेंस का एक हिस्सा है जिसे ट्रेड शुरू करने के लिए ज़रूरी डिपाजिट के रूप में आवंटित करके अलग रखा गया है।

मार्जिन को लीवरेज द्वारा गुणा करके लॉट का आकार निर्धारित किया जाता है। मार्जिन आपके ट्रेडिंग खाते में वास्तविक धन राशि है।

उदाहरण के लिए, आप 1 माइक्रो लॉट या 0.1 लॉट का कारोबार करना चाहते हैं जो $1000 के बराबर है, और आपका फोरेक्स ब्रोकर आपको 50:1 लीवरेज की पेशकश कर रहा है। 1 माइक्रो लॉट को नियंत्रित करने के लिए, आपको अपने खाते से मार्जिन के लगभग 20 डॉलर की आवश्यकता होगी।

अगर आप अपने ट्रेड में जीत या हार जाते हैं तो मार्जिन आपको वापस कर दिया जाएगा।

मार्जिन की गणना कैसे करें

मार्जिन आवश्यकता आपके ब्रोकर द्वारा दी जाने वाली लीवरेज के अनुरूप होती है। एक ट्रेड शुरू करने के लिए ज़रूरी मार्जिन को एक पोजीशन की पूरी राशि के प्रतिशत के रूप में भी व्यक्त किया जा सकता है।

उदाहरण 1: 50:1 लीवरेज अनुपात का मतलब 1/50=0.02=2% आवश्यक मार्जिन है।

उदाहरण 2: 100:1 लीवरेज अनुपात का अर्थ 1/100=0.01=1% आवश्यक मार्जिन है।

आपका ब्रोकर जिस राशि को डिपाजिट करने के लिए कहेगा, उस आवश्यक मार्जिन की गणना करने के लिएनिम्नलिखित फार्मूला अपनाएँ:

आइए निम्नलिखित उदाहरण पर ज़रा गौर करें:

बाजार मूल्य 1.2200 पर EUR/USD की खरीदारी

कॉन्ट्रैक्ट साइज़ = 10,000

लॉट साइज़ = 2

अकाउंट लीवरेज = 1:50

इसका मतलब है, आपको अपने खाते में कम से कम $488 को संपार्श्विक (collateral) के रूप में रखना होगा ताकि आप उस पोजीशन को शुरू कर सकें। अन्यथा, पर्याप्त मार्जिन उपलब्ध न होने के कारण आपका ऑर्डर ख़ारिज कर दिया जाएगा।

इक्विटी क्या है?

फोरेक्स ट्रेडिंग में खाते के बैलेंस और आपकी खुली पोजीशन से अप्राप्य (unrealized) लाभ या हानि के योग को इक्विटी के रूप में दर्शाया जाता है। खाता इक्विटी खाते की कुल राशि को संदर्भित करती है।

फ्री मार्जिन क्या है?

फ्री मार्जिन आपके ट्रेडिंग अकाउंट में वह धनराशि है जो नई पोजीशन खोलने के लिए उपलब्ध है। निम्नलिखित फार्मूला का उपयोग करके फ्री मार्जिन का पता लगाया जा सकता है:

एक उदाहरण लीजिये जहां आप निम्नलिखित शर्तों के साथ एक ट्रेड शुरू करना चाहते हैं:

बैलेंस = $10,000

लीवरेज 1:50

मार्जिन = 2%

1.2200 पर 0.1 लॉट साइज EUR/USD खरीदें

इस ट्रेड के लिए आवश्यक मार्जिन की गणना निम्न तरीके से की जायेगी:

यदि इस ट्रेड में एंट्री करने के बाद, EUR/USD विनिमय दर (exchange rate) गिरकर 1.2100 की दर पर पहुँच जाती है, तो आपको 100 पिप्स का नुकसान हुआ है, जो $100 के नुकसान के बराबर है।

हालांकि, अगर इस ट्रेड में प्रवेश करने के बाद EUR/USD विनिमय दर 1.2300 के एक्सचेंज रेट तक पहुंच गई है तो आपको 100 पिप्स का लाभ हुआ है जो $100 के मुनाफ़े के बराबर है।

फोरेक्स मार्केट में जब तक आप पोजीशन को बंद नहीं करते, तब तक फ्लोटिंग पीएनएल (floating PnL) अवास्तविक हानि या लाभ (the unrealized loss or profit) का प्रतिनिधित्व करता है। लाभ या नुकसान तब दिखता है जब ट्रेड अभी भी प्रगति पर है और अवास्तविक पीएनएल (unrealized PnL) का प्रतिनिधित्व करता है। जब ट्रेड खुला हो, तो हम केवल अवास्तविक लाभ या हानियों (unrealized gains or losses) की चर्चा कर सकते हैं। जब आप अपने ट्रेड को बंद करते हैं, सिर्फ तभी आपकी लाभ या हानि वास्तविक रूप लेगी।

मार्जिन कॉल

मार्जिन कॉल उस स्थिति को दर्शाता है जब किसी खाते में मार्जिन समाप्त हो जाता है और ट्रेडर द्वारा दोबारा फंड डालने या अपनी पोजीशन को बंद कर देने की ज़रूरत होती है।

आम तौर पर जब आपकी अकाउंट इक्विटी आवश्यक मार्जिन से नीचे गिर जाती है, तो सभी खुले पोजीशन को आपके ब्रोकर द्वारा ऑटोमैटिक रूप से बंद कर दिया जाएगा। दूसरे ब्रोकर भी आपको मार्जिन अलर्ट भेजेंगे जिससे ट्रेडर सभी पोजीशन को समाप्त (liquidate) कर सके।

Share your knowledge

फीचर्ड ब्रोकर

फॉरेक्स और CFD की ट्रेडिंग सभी निवेशकों के लिए उपयुक्त नहीं होती है और लीवरेज के कारण तेजी से पैसा गंवाने का हाई रिस्क लिए होती है। 75-90% रिटेल इन्वेस्टर इन प्रोडक्ट में ट्रेडिंग करते हुए पैसा गंवाते हैं। आपको यह तय करना चाहिए कि क्या आप समझते हैं कि CFD ट्रेडिंग कैसे काम करती है और क्या आप पैसा गंवाने का भारी जोखिम उठाने की स्थिति में हैं।